पानी का मौसम कविता | Panee Ka Mausam Kavita

फिर पानी का मौसम आया। झिलमिलाहटभीग जाओ, कई स्नान करो,पानी में वापस नावशैतानी मौसम आ गया है! सर्द हवाएंकहानियों, मीठी कहानियों का मज़ाक उड़ाते हैंकानों में रस घुल जाता है।कहानी का मौसम! अंबर ने जमीन पर पानी डालाहरी घास का कालीन,कुहू-कुहू के साथ आया थाकोयल रानी का मौसम! जामुन, आम, मीठा पपीतामिस्र से लाए गए… Continue reading पानी का मौसम कविता | Panee Ka Mausam Kavita