मेरे पिता पर निबंध Essay on Father in Hindi on Father’s Day

मेरे पिता मेरे लिए आदर्श है। क्योंकि वे एक आदर्श पिता हैं। उनमें वे सब योग्यताएँ मौजूद हैं जो एक श्रेष्ठ पिता में होती हैं। वे मेरे लिए केवल एक पिता ही नहीं बल्कि मेरे सबसे अच्छे दोस्त भी हैं, जो समय-समय पर मुझे अच्छी और बुरी बातों का आभास कराकर आगाह करते हैं। पिताजी मुझे हार न मानने और हमेशा आगे बढ़ने की सीख देते हुए मेरा हौसला बढ़ाते हैं। पिता से अच्छे नवाक कोई हो ही नहीं सकते थे। हर बच्चा अपने पिता से ही सभी गुण सीखता है जो उसे जीवन भर परिस्थितियों के अनुसार ढकना के काम आते हैं। उनके पास सदैव हमें देने के लिए ज्ञान का अमूल्य भंडार होता है, जो कभी खत्म नहीं होता है।

उनकी कुछ प्रमुख विशेषताएं उन्हें दुनिया में सबसे खास बनाती हैं, जैसे: – धैर्य –

एक पिता का सबसे महत्वपूर्ण गुण यह है कि वह हर समय धैर्य बनाए रखता है और कभी अपना आपा नहीं खोता। हर स्थिति में, वे शांति से आगे बढ़ते हैं और सबसे गंभीर मामलों में भी धैर्य रखते हैं।

संयम- मैं हमेशा पिता से सीखा है कि चाहे कुछ भी हो जाए, हमें अपने आप पर से नियंत्रण कभी नहीं खोना चाहिए। पिताजी हमेशा समन्वित व्यवहारकुशलता से हर कार्य को सफलता पूर्वक समाप्त करते हैं। वे कभी मुझ पर या माँ पर बिना कारण छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा नहीं करते।
अनुशासन- पिताजी हमेशा हमें अनुशासन में रहना सिखाते हैं और वे स्वयं भी अनुशासन में रहते हैं। सुबह से लेकर रात तक उनकी पूरी दिनचर्या खतरे में होती है। वे सुबह समय पर उठकर दैनिक कार्यों से नि’विट बन कार्यालय चले जाते हैं और समय पर लौटते हैं। वे प्रतिदिन शाम को मुझे बगीचे में घुमाने भी जाते हैं। इसके बाद वे मुझे स्कूल के सभी विषयों का अध्ययन करवाते हैं।

शुद्धता- डैड होम के सभी कार्यों और परिवार के सभी लोगों और उनके स्वास्थ्य के प्रति गंभीर होते हैं। वे कभी छोटी-छोटी बातों को भी नजर अंदाज नहीं करते बल्कि हर बात को गंभीरता से लेकर उसके महत्व को समझते हैं

प्रेम- पिताजी मुझे, और परिवार के सभी लोगों से बहुत प्रेम करते हैं, वे घर में किसी भी प्रकार की कमी नहीं होने देते हैं और हमारी ज़रूरतें और फरमाइशें भी पूरी करते हैं। किसी भी प्रकर की गलती होने पर वे हमें डांटने के बजाए हमेशा प्यार से समझाते हैं और शक्तियों के परिणाम बताते हैं कि दोबारा न करने की सीख भी देते हैं।

बड़ा दिल- पिताजी का दिल बहुत बड़ा है, कई बार उनके पास पैसे नहीं होते हैं भी वे अपनी ज़रूरत भूलकर हमारी जरूरतों और कभी कभी गैरजरूरी फरमाइशों को भी पूरा करते हैं वे कभी हमें या परिवार के सदस्यों को किसी भी चीज़ के लिए तरस नहीं नहीं करते हैं। दे दो। बच्चा नं
बड़ी से बड़ी धुंध भी क्यों न कर दें, पिताजी हमेशा कुछ देर गुस्सा दिखाने के बाद उसे माफ कर देते हैं।

पिताजी कभी अपनी कोई तकलीफ नहीं बताते बल्कि वे घर के लोगों की हर जरूरत और तकलीफ का पूरा ध्यान रखते हैं। इन सब विशेषताओं के कारण पिता की महानता और अधिग्रहीत वृद्धि बढ़ जाती है और उनकी तुलना दुनिया में किसी से भी नहीं की जा सकती है।

पिता प्रत्येक बच्चे के लिए धरती पर ईश्वर का साक्षात रूप होते हैं। वे अपने संतान को खुशी देने के लिए अपने सुखों को भी भुला देते हैं। वे रात दिन अपने बच्चों के लिए ही मेहनत करते हैं और उन्हें वे हर सुविधा देना चाहते हैं जो उन्हें भी कभी नहीं मिला। कई बार छोटी सी तनख्वाह में भी बच्चों को अच्छी शिह देने देने के लिए पिता कर्ज में भी डूब जाते हैं लेकिन बच्चों के सामने कभी कोई परेशानी जाहिर नहीं करते … शायद इसीलिए पिता, दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण होते हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *